Header Ads Widget

Computer Memory क्या है और कितने प्रकार की होती है?

दोस्तों आपने पिछले लेख में जाना था की माइक्रोप्रोसेसर क्या है, और कैसे कार्य करता है तथा ये भी सिखा था की Microprocessor में कोर और जनरेशन क्या होता है, तो दोस्तों आज आप सीखेगे की कंप्यूटर में मेमोरी क्या है और कितने प्रकार की होती है? 


जैसा की आप सभी लोग जानते है की माइक्रोप्रोसेसर को आपके किसी भी कार्य को प्रोसेस करने के लिए डाटा और निर्देश की आवश्यकता होती है, कंप्यूटर में अस्थायी रूप से डाटा और निर्देश मेमोरी में स्टोर होता है, तो चलिए इसके बारे में विस्तार से जानते है!

Computer Memory क्या है और कितने प्रकार की होती है- Computer Memory Units in Hindi-Computer Memory Kya Hai In Hindi-What is Computer Memory in Hindi
Computer Memory Kya Hai Hindi Me






कंप्यूटर मेमोरी क्या होती है- What is Computer Memory in Hindi ?

जैसा की आप सभी लोग जानते है की कंप्यूटर में CPU / Microprocessor को कंप्यूटर का ब्रेन कहा जाता है, लेकिन जहां मनुष्‍य का ब्रेन बहुत सारे काम करने के साथ-साथ हमारी यादों को भी सुरक्षित रखने का काम करता है वहीं सीपीयू (CPU) / माइक्रोप्रोसेसर केवल अंकगणितीय गणना (Arithmetic Calculation) और तार्किक गणना कर इनपुट डाटा को प्रोसेस करता है, प्रोसेस डाटा को सुरक्षित नहीं रख सकता है तब प्रोसेस डाटा को सुरक्षित स्टोर रखने का कार्य मेमोरी ( Memory ) का होता है! यह डाटा और निर्देशों को याद रखने के लिए अर्थात संग्रहित करने के लिए Memory का इस्तेमाल करता हैं, जिसे Computer Memory कहा जाता हैं!


इसको समझाने के लिए हम आपको एक उदाहरण से समझाते है, जैसे हम इंसानों को कुछ याद रखने के लिए Memory की जरुरत होती है और हम उसे याद रख पाते है, जब हम कुछ देखते सुनते या पढ़ते है तो वो सब हमारे दिमाग में स्टोर हो जाता है ठीक वैसे ही Computer Memory भी होती है, कंप्यूटर में डाटा को याद रखने के लिए मेमोरी होती है जब किसी प्रोसेस या यूजर को स्टोर किये गए डाटा की जरूरत होती है तो कंप्यूटर वो जानकारी मेमोरी से निकाल के उस यूजर को देता है!


Computer में Memory एक चिप को दर्शाती है, जो डाटा और निर्देशों को स्टोर करती है यह हमे स्टोर किये गये डाटा को पुनः प्राप्त करने में सक्षम बनाती है, कम्प्यूटर याद रखने के लिए जिस उपकरण का सहारा लेता हैं, उसे कम्प्यूटर मेमोरी कहते हैं, कम्प्यूटर मेमोरी इंसानी दिमाग की तरह कार्य करती है! कंप्यूटर मेमोरी (Computer Memory) कंप्‍यूटर की संरचना के अनुसार कंप्यूटर का वह भाग है जो यूजर द्वारा इनपुट किये डाटा और प्रोसेस डाटा को स्‍टोर करती है मेमोरी CPU का अभिन्न अंग है, इसे कंप्यूटर की मुख्य मेमोरी, आंतरिक मेमोरी ( Internal Memory ) या प्राथमिक मेमोरी ( Primary Memory ) भी कहते है!


Memory के बहुत से अलग अलग प्रकार होते हैं और जिनकी कार्य क्षमता भी भिन्न होती हैं, ऐसे में इन सभी के विषय में आप सभी को जानना बहुत ही जरुरी होता है तो चलिए अब जानते है मेमोरी के प्रकार, कि Computer Memory कितने प्रकार की होती है?



कंप्यूटर मेमोरी कितने प्रकार की होती है? Types Of Computer Memory In Hindi


मेमोरी किसी भी कंप्यूटर का सबसे जरुरी हिस्सा होती है क्यूंकि बिना मेमोरी के कंप्यूटर एक छोटा काम भी नहीं कर सकता है मेमोरी कंप्यूटर के मदरबोर्ड में लगी होती है! Computer Memory Data को स्टोर करने का काम करती हैं, और जरुरत पडने पर उसे कम्प्यूटर को उपलब्ध करवाती हैं कंप्यूटर मेमोरी को बहुत सारे छोटे भागों में बाँटा गया है, जिन्हें हम सेल कहते हैं। मेमोरी में उपलब्ध प्रत्येक Cell की अपनी अलग पहचान होती हैं, प्रत्येक सेल का यूनिक एड्रेस या पाथ होता है। जिसे Cell Address/Path कहते हैं, इन Cells में ही डाटा स्टोर हैं, यह डाटा Binary Digits (0, 1) में स्टोर रहता हैं! 


कम्प्यूटर में डाटा को स्थाई और अस्थाई रूप में स्टोर किया जाता हैं, जिसके लिए वह अलग-अलग प्रकार की Memory का इस्तेमाल करता हैं वैसे तो कंप्यूटर में कई तरह की मेमोरी होती है जिनका अपना अपना काम होता है लेकिन मुख्य रूप से कंप्यूटर मेमोरी दो तरह की होती है प्राइमरी मेमोरी ( Volatile memory )/ अस्थिर मेमोरी और सेकेंडरी मेमोरी ( Non-volatile Memory )/ स्थिर मेमोरी इसके साथ ही एक कैश मेमोरी भी होती है जो बहुत फ़ास्ट होती है! यहाँ पर Random Access Memory (RAM) एक Volatile Memory / अस्थिर मेमोरी होती है और Read Only Memory (ROM) एक Non-volatile Memory / स्थिर मेमोरी होती है!


  1. Cache Memory ( कैश मेमोरी ) - अधिक जानने के लिए क्लिक करें
  2. Primary Memory / Volatile Memory ( अस्थिर मेमोरी )अधिक जानने के लिए क्लिक करें
  3. Secondary Memory / Non Volatile Memory ( स्थिर मेमोरी )अधिक जानने के लिए क्लिक करें



कंप्‍यूटर मेमोरी की इकाई या यूनिट - Computer Memory Units in Hindi


कम्‍प्‍यूटर की दुनिया में स्‍टोरेज क्षमता का नापने के लिये भी मात्रकों का निर्धारण किया गया है, जिसे कंप्‍यूटर मेमोरी की इकाई या यूनिट कहते हैं, कंप्यूटर मेमोरी में डाटा 0 और 1 के रूप में स्टोर होता है इन दो संख्याओं को Binary Digits या Bits कहा जाता हैं! कंप्यूटर मेमोरी (Computer Memory) की सबसे छोटी इकाई बिट (bit) होती है और जब चार बिट को मिला दिया जाता है तो उसे निब्‍बल (Nibble) कहते हैं यानी 1 निब्‍बल = 4 बिट बाइट (Byte) 8‍ बिट के एक समूह को बाइट कहते हैं। इसी प्रकार ज्यादा डाटा को Represent करने के लिए इन Bits का और बडा Set बनाया जाता हैं. जिनका नामकरण Bits की संख्याओं के आधार पर किया जाता हैं!


  • 1 बिट (bit) = 0, 1 
  • 4 बिट (bit) =  1 निब्‍बल 
  • 8‍ बिट = 1 बाइट्स (Byte)
  • 1000 बाइट्स (Byte) = एक किलोबाइट (KB)
  • 1024 किलोबाइट (KB) = एक मेगाबाइट (MB)
  • 1024 मेगाबाइट (MB) = एक गीगाबाइट (GB)
  • 1024 गीगाबाइट (GB) = एक टेराबाइट (TB)
  • 1024 टेराबाइट (TB) = एक पेंटाइट (PB)
  • 1024 पेडाबाइट (PB) = एक एक्साबाइट (EB)
  • 1024 एक्साबाइट (EB) = एक ज़ेटबाइट (ZB)
  • 1024 ज़ेटाबाइट (ZB) = एक योट्टाबाइट (YB)
  • 1024 योट्टाबाइट (YB) = एक ब्रोनटोबाइट (BB)
  • 1024 ब्रोनटोबाइट (BB) = एक गोपबाइट (GB)



ये भी पढ़े-




निष्कर्ष-

आज आपने जाना कंप्यूटर मेमोरी क्या होती है और ये कितने प्रकार की होती है कंप्यूटर में दी गई मेमोरी किस काम आती है मुझे आशा है आपको हमारा लेख Computer Memory Kya Hai पसन्द आया होगा ! यदि आपके मन में इस लेख को लेकर कोई भी सवाल या सुझाव हैं तो आप नीचे कमेंट करके हमे बता सकते है, इस लेख को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें ताकि उन्हे भी कम्प्यूटर मेमोरी के बारे में जानकारी मिल जाएं!

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ