Header Ads Widget

Cache Memory ( कैश मेमोरी ) क्या होती है और कितने प्रकार की होती है?

Cache Memory ( कैश मेमोरी ) क्या होती है और कितने प्रकार की होती है-Types of Cache Memory In Hindi-Cache Memory Kya Hai In Hindi
Cache Memory Kya Hai Hindi Me





Cache Memory बहुत ही तेज होती हैं, यह एक बहुत ही High Speed Semiconductor Memory है जो CPU की स्पीड को फ़ास्ट कर देती है! इस मेमोरी में अधिकतर यानि Frequently इस्तेमाल होने वाले प्रोग्राम और निर्देश स्टोर किये जाते हैं. ताकि CPU तेजी से कार्य कर सके, Cache Memory CPU और मुख्य मेमोरी के बीच स्थित होती हैं! कैश मेमोरी Main memory और CPU के बीच में Buffer का काम करती है, यानि CPU पहले से ही Cache Memory में स्टोर डाटा और निर्देश प्राप्त कर लेता हैं, और कार्य के दोहराव से बच जाता हैं!


जब CPU किसी डाटा की Request करता है जिसका Instance कैश मेमोरी में पहले से मौजूद है अब उसे किसी कार्य के लिए निर्देश और डाटा प्राप्त करने के लिए प्राइमरी मेमोरी में नही जाना पडता हैं जिससे Main memory को एक्सेस करने का समय कम हो जाता है और प्रोसेसिंग स्पीड बढ़ जाती है, इसलिए CPU तेजी से कार्य करता हैं!


Cache Memory में इन डाटा और निर्देशों को Operating System द्वारा भेजा जाता हैं, जिन्हे फिर CPU द्वारा इस्तेमाल किया जाता हैं कैश मेमोरी Ram से साइज़ में कम लेकिन कीमत में ज्यादा होती है, इस मेमोरी की Store Capacity Limited होती हैं अगर हम कैश मेमोरी के Response time की बात करे तो इसके लिए इसे बस कुछ Nanoseconds ही लगते है!


कैश मेमोरी कितने प्रकार की होती है? Types of Cache Memory In Hindi

Cache Memory को Level के आधार  पर विभाजित किया गया है, जैसे L1, L2 और L3 Cache, जिन्हें Cache Levels कहते है! Cache Memory प्रोसेसर चिप में एम्बेडेड होती है जहाँ CPU/Processor द्वारा जरूरी Instructions अस्थायी रूप से स्टोर होते है!


  • L1 Cache:- L1 कैश को Primary cache कहते है क्यूंकि ये प्रोसेसर चिप के साथ ही बनाई जाती है इसकी साइज़ सबसे कम होती है लेकिन स्पीड L2 और L3 से तेज़ होती है!


  • L2 Cache:- इसे हम Secondary Cache कहते है पहले L2 कैश Motherboard के साथ Embedded होती थी जिस कारण इसकी स्पीड पर इफ़ेक्ट पड़ता था लेकिन अब Secondary Cache Memory Processor Chip में लगी होती है! इसकी साइज़ L1 Cache से ज्यादा होती है और स्पीड भी Main Memory से तेज़ होती है, लेकिन L1 से कम होती है इसे External Cache भी कहा जाता है!


  • L3 Cache:- L3 Cache Memory को L1 और L2 कैश की Performance को बढ़ाने के लिए बनाया जाता है ये मदरबोर्ड में Ram और Processor Module के L1, L2 कैश के बीच में लगी होती है, जब प्रोसेसर को किसी इनफार्मेशन की जरूरत होती है तो सबसे पहले L1 फिर L2 और लास्ट में L3 कैश में सर्च किया जाता है L3 कैश मेमोरी की स्पीड सबसे कम होती है!



Cache Memory की विशेषताएं


  • Cache memory बहुत ही ज्यादा fast होती है प्राथमिक मेमोरी ( Primary Memory ) की तुलना में !
  • इसमें डाटा अस्थायी रूप में स्टोर रहता हैं !
  • कैश मेमोरी का Response टाइम कुछ Nano Seconds का होता है इसलिए ये बहुत ही फ़ास्ट काम करती है!
  • कैश मेमोरी उन प्रोग्राम्स और निर्देश को स्टोर करती हैं, जो प्रोसेसर द्वारा Immediately चाहिए होते है अर्थात इसमे अधिकतर इस्तेमाल होने वाले प्रोग्रामों और कार्यों के निर्देश स्टोर रहते हैं!
  • इसकी स्टोर क्षमता सीमित होती हैं, लेकिन Access Time बहुत ही कम होता है!




यह भी पढ़े-





निष्कर्ष-

आज आपने जाना Cache Memory ( कैश मेमोरी ) क्या होती है और कितने प्रकार की होती है? आपको हमारा लेख Cache Memory Kya Hai In Hindi पसन्द आया होगा ! यदि आपके मन में इस लेख को लेकर कोई भी सवाल या सुझाव हैं तो आप नीचे कमेंट करके हमे बता सकते है, इस लेख को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें ताकि उन्हे भी कम्प्यूटर मेमोरी के बारे में जानकारी मिल जाएं!

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ