Header Ads Widget

2021 में करवा चौथ कब है?- Karwa Chauth Date and Time 2021 in India

Karwa Chauth Katha:- भारत में हिंदू धर्मग्रंथों, पौराणिक ग्रंथों और शास्त्रादि के अनुसार हर महीने कोई न कोई उपवास, कोई न कोई पर्व, त्यौहार या संस्कार आदि आता ही है लेकिन कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को जो उपवास किया जाता है उसका सुहागिन स्त्रियों के लिये बहुत अधिक महत्व होता है। दरअसल इस दिन को करवा चौथ का व्रत किया जाता है। माना जाता है कि इस दिन यदि सुहागिन स्त्रियां उपवास रखें तो उनके पति की उम्र लंबी होती है और उनका गृहस्थ जीवन सुखद होने लगता है। 

Karwa Chauth Pooja, Karwa Chauth Vrat Katha in Hindi- 2021 में कब है करवा चौथ?- Karwa Chauth 2021 Date and Time in India- करवा चौथ व्रत कथा हिंदी में




Happy Karwa Chauth- Karwa Chauth Pooja 2021

हालांकि पूरे भारतवर्ष में हिंदू धर्म में आस्था रखने वाले लोग बड़ी धूम-धाम से इस त्यौहार को मनाते हैं लेकिन उत्तर भारत खासकर पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश आदि में तो इस दिन अलग ही नजारा होता है। करवाचौथ व्रत के दिन एक और जहां दिन में कथाओं का दौर चलता है तो दूसरी और दिन ढलते ही विवाहिताओं की नज़रें चांद के दिदार के लिये बेताब हो जाती हैं। चांद निकलने पर घरों की छतों का नजारा भी देखने लायक होता है। दरअसल सारा दिन पति की लंबी उम्र के लिये उपवास रखने के बाद आसमान के चमकते चांद का दिदार कर अपने चांद के हाथों से निवाला खाकर अपना उपवास खोलती हैं। 


Karwa Chauth Vrat Katha in Hindi 

करवाचौथ का व्रत सुबह सूर्योदय से पहले ही 4 बजे के बाद शुरु हो जाता है और रात को चंद्रदर्शन के बाद ही व्रत को खोला जाता है। इस दिन भगवान शिव, माता पार्वती और भगवान श्री गणेश की पूजा की जाती है और करवाचौथ व्रत की कथा सुनी जाती है। सामान्यत: विवाहोपरांत 12 या 16 साल तक लगातार इस उपवास को किया जाता है लेकिन इच्छानुसार जीवनभर भी विवाहिताएं इस व्रत को रख सकती हैं। माना जाता है कि अपने पति की लंबी उम्र के लिये इससे श्रेष्ठ कोई उपवास अतवा व्रतादि नहीं है।


Karva Chauth Vrat 2021:- करवा चौथ व्रत का हिन्दू धर्म में विशेष महत्व है। इस दिन सुहागिन स्त्रियां अपने पति की दीर्घायु और सुखी जीवन के लिए व्रत रखती है। यह व्रत सुहागिन महिलाओं के लिए सबसे महत्वपूर्ण व्रत माना जाता है। करवा चौथ के दिन हर महिला के लिए बहुत पूजनीय होता है। इस दिन व्रत में शिव, पार्वती, कार्तिकेय, गणेश के साथ चंद्रमा की भी पूजा करने का विधान है। यही नहीं कुंवारी लड़कियां भी मनवांछित वर के लिए इस दिन व्रत रखती है।


दिवाली क्यों मनाते है- Diwali Date and Time

धनतेरस कब है- Dhanteras Quotes and Wishes


2021 में कब है करवा चौथ?- Karwa Chauth 2021 Date and Time in India

करवा चौथ का पावन व्रत हर साल कार्तिक मास में कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि के दिन रखा जाता है और इस साल करवा चौथ व्रत 24 अक्टूबर 2021 को रखा जाएग


करवा चौथ मुहूर्त 2021- When is Karwa Chauth

करवा चौथ पूजा मुहूर्त- करवा चौथ 2021 पूजा का समय 24 अक्टूबर 2021 को शाम 05:43 से लेकर 06:59 तक

चंद्रोदय- 24 अक्टूबर 2021 यानी करवा चौथ पर चांद रात को 08:07 पर उदय होगा।

चतुर्थी तिथि आरंभ- 24 अक्टूबर सुबह 03 बजकर 01 मिनट से

चतुर्थी तिथि समाप्त- 25 अक्टूबर सुबह 05 बजकर 43 मिनट पर



करवा चौथ व्रत- Karwa Chauth Katha in Hindi


करवा चौथ का त्यौहार बहुत खुशी के साथ हर साल महिलाओं द्वारा कृष्ण पक्ष में पूरे दिन व्रत रखकर कार्तिक के महीने की चतुर्थी पर मनाया जाता है। यह एक ही तिथि पर भारत के लगभग सभी राज्यों में मनाया जा रहा है। यह हर साल अक्टूबर या नवंबर के महीने में, हिंदू कैलेंडर के अनुसार पूर्णिमा के चौथे दिन पडता है।


करवा चौथ के दिन उपवास रखना का एक बड़ा अनुष्ठान है जिसके दौरान एक शादीशुदा औरत पूरे दिन उपवास रखती है और अपने पति के कल्याण और लंबे जीवन के लिए भगवान गणेश की पूजा करती हैं। विशेष रूप से, ये विवाहित महिलाओं का त्यौहार है, हालांकि कुछ भारतीय क्षेत्रों में; अविवाहित महिलाओं द्वारा भी उनके भविष्य के पति के लिए उपवास रखने की एक परंपरा है।


इस दिन पर विवाहित महिलाएँ पूरे दिन उपवास रखती है, शाम को भगवान शिव और उनके परिवार की पूजा करती है, और केवल चन्द्रोदय देखने के बाद देर शाम या रात में व्रत खोलती है। करवा चौथ उपवास बहुत मुश्किल है और इसका एक सख्त अनुशासन या नियम है कि कोई महिला सूर्योदय से रात में चंद्रोदय तक कुछ भी भोजन या पानी नहीं ले सकती।


ये करक चतुर्थी के रूप में भी कहा जाता है (करवा या करक का मतलब है एक मिट्टी का बर्तन जिसके उपयोग से औरत चंद्रमा को अर्घ्य देती है)। ब्राह्मण या अन्य विवाहित महिला के लिए कुछ दान और दक्षिणा देने की भी एक परंपरा है। ये देश के अन्य क्षेत्रों की तुलना में उत्तर भारतीय राज्यों में अत्यधिक लोकप्रिय है। बेटे के लिए एक और उपवास त्यौहार है जो अहोई अष्टमी व्रत के रूप में नामित है जो करवा चौथ के सिर्फ चार दिनों के बाद पड़ता है।


Diwali Quotes and Wishes in Hindi 2021

गोवर्धन पूजा कब है- Govardhan Pooja Quotes and Wishes


करवा चौथ की उत्पत्ति और कहानी- Karwa Chauth Vrat Katha In Hindi


करवा चौथ का अर्थ उपवास है और कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी पर करवा (मिट्टी के बर्तन) का उपयोग कर के चंद्रमा को अर्घ्य देना है। करवा चौथ हर साल अंधेरे पखवाड़े के चौथे दिन पडता है। भारतीय उपमहाद्वीप के उत्तर-पश्चिमी भाग में महिलाओं द्वारा करवा चौथ के त्यौहार का जश्न अभी स्पष्ट नहीं है हालांकि इसे मनाने के कुछ कारण अस्तित्व में है।


यह माना जाता है कि महिलाऍ को अपने पति के स्वस्थ और लंबे जीवन के लिए भगवान से प्रार्थना करती है जब वे घर से बाहर अपने कर्तव्य या अन्य कठिन अभियानों पर होते हैं जैसे भारतीय सैनिक, पुलिसकर्मी, सैन्य कर्मचारी इत्यादि। भारतीय सैनिक अपने घर से दूर पूरे देश की सुरक्षा के लिए देश की सीमा पर बहुत कठिन ड्यूटी करते हैं। वे सूखे क्षेत्रों में कई नदियों को पार करके मानसून के मौसम को झेलते हुये और भी कई चुनौतियों का सामना करते हुये अपने कर्तव्य का पालन करते हैं। तो, उनकी पत्नियॉ अपने पतियों की सुरक्षा, दीर्घायु और कल्याण के लिए भगवान से प्रार्थना करती हैं।



Karwa Chauth Banane Ki Vidhi

महिलाऍ पूरे दिन को बिना खाना खाये और पानी की एक बूंद भी पीये बिना अपने पति की सुरक्षा के लिए जहॉ कहीं भी वे अपने घर से दूर अपने मिशन पर होते हैं के लिए व्रत रहती है। यह त्यौहार गेहूं की बुवाई के दौरान अर्थात् रबी फसल चक्र के शुरू में होता है। एक औरत बड़े मिट्टी के बर्तन (कार्व) गेहूं अनाज के साथ भर कर के पूजा करती हैं और विशेष रूप से गेहूं खाने वाले क्षेत्रों में इस मौसम में अच्छी फसल के लिए भगवान से प्रार्थना करती हैं।


महिलाओं द्वारा करवा चौथ का जश्न मनाने के पीछे एक और कहानी खुद के लिए है। बहुत समय पहले, जब लङकियों की शादी किशोरावस्था या और भी जल्दी 10,12 या 13 साल की उम्र में हे जाती थी, उन्हें अपने माता-पिता के घर से दूर अपने पति और ससुराल वालों के साथ जाना पड़ता था। उसे घर के सभी कामों को, ससुराल वालों के कामों के साथ साथ घर के बाहर खेतों के भी कामों को करना पड़ता था। वह बस उसके ससुराल वालों के घर में एक पूर्णकालिक नौकर की तरह थी। उसे हर किसी की जिम्मेदारी खुद लेनी पड़ती थी।


भाईदूज कब है- Bhaidooj Quotes and Wishes 


Karwa Chauth Ki Katha Kahani


ऐसे मामलों में यदि उसे ससुराल वालों से कुछ समस्या है, तो उसके पास कोई विकल्प नहीं था जैसे वापस घर जाना हो, रिश्तेदार, मित्र, आदि। पहले के दिनों में परंपरा थी, कि एक बार दुल्हन के दूल्हे के घर आने के बाद वह लंबे समय के लिये या जीवन में केवल एक या दो बार से ज्यादा अपने माता-पिता के घर नहीं जा सकेंगीं।


इस समस्या या अकेलेपन को हल करने के लिए महिलाओं ने उसी गॉव में जिसमें उनकी शादी हुई है वहॉ अच्छे समर्थन कर्ता दोस्त या बहन (धर्म दोस्त या धर्म बहन-गांव की अन्य विवाहित महिलाये) बनाने के लिये कार्तिक के महीने में चतुर्थी पर करवा चौथ का जश्न मनाना शुरू कर दिया। वे एक साथ मिलती, बात करती, अच्छे और बुरे क्षणों के बारे में चर्चा करती, हॅसती, अपने आप को सजाती, एक नयी दुल्हन की तरह बहुत सारी गतिविधियॉ करती और खुद को फिर से याद करती।


इस तरह वे, कभी खुद को अकेली या दुखी महसूस नहीं करती थी। करवा चौथ के दिन वे करवा खरीदती और एक साथ पूजा करती थी। वे विवाहित महिलाओं का कुछ सामान भी उपहार में (जैसे चूड़ियां, बिंदी, रिबन, लिपस्टिक, झुमके, नेल पॉलिश, सिंदूर, घर का बना कैंडी, मिठाई, मेकअप आइटम, छोटे कपड़े और अन्य तरह की वस्तुऍ) अन्य विवाहित महिलाओं को यह अहसास कराने के लिये देती कि उनके लिये भी कोई है। तो पुराने समय में करवा चौथ का त्यौहार आनंद और धर्म दोस्तों या धर्म बहनों के बीच विशेष बंधन को मजबूत करने के लिए एक उत्सव के रूप में शुरू किया गया था।



Karwa Chauth Ki Puja Kaise Karte Hai


करवा चौथ पर उपवास रखना और पतियों के लिए पूजा की अवधारणा बहुत बाद में एक माध्यमिक प्रक्रिया के रूप में आयी। बाद में, बहुत सी पौराणिक कथाऍ और कहानियॉ इस त्यौहार को मनाने के अर्थ को बढ़ाने के क्रम में प्रचलित हुई। उपवास, पूजा और महिलाओं द्वारा खुद को सजाना पति-पत्नी के रिश्ते में बहुत सारी खुशी, आत्मविश्वास और नवीकरण लाता। यह पति और पत्नी के बीच संबंधों को भी नवविवाहित जोड़े की तरह मजबूत करता है।


पति भावनात्मक रूप से अपनी पत्नी के और करीब हो जाता है और एक सच्चे दोस्त की तरह उसे कभी भी चोट नहीं पहुँचाने का प्रयास करता है। इस तरह महिलाऍ भावनात्मक लगाव के द्वारा अपने पति का भरोसा औत प्रेम जीतती। वह पूरे दिन बिना भोजन और बिना पानी के उपवास रखती, खुद को दुल्हन की तरह तैयार करती और अपने पति की सुरक्षा और अच्छे के लिये पूजा करती क्योंकि ससुराल में केवल पति ही उनके पूरे जीवन के लिये कर्त्ताधर्ता होता था।

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ